Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai Lyrics

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai Lyrics

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai Lyrics” is an emotionally resonant Urdu song performed by the renowned artist Alhajj Muhammad Owais Raza Qadri. This heartfelt composition, featured in the album “Ab Meri Nigaho Mei Jagta Nahi Koi,” was released in 2021. The song’s title translates to “I am not the only one willing to sacrifice for them; the whole world is devoted to them,” evoking profound sentiments of devotion and sacrifice.

Alhajj Muhammad Owais Raza Qadri’s rendition beautifully captures these emotions, making it a touching and cherished piece in Urdu music. For those seeking a profound musical experience, this song is a heartfelt expression of love and devotion.

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai Lyrics Hindi
(इक मैं ही नहीं, उन पर क़ुर्बान ज़माना है )

एक मैं ही नहीं उन पर क़ुर्बान ज़माना है,
एक मैं ही नहीं उन पर क़ुर्बान ज़माना है,
जो रब ए दो आलम का महबूब यगाना है।

कल पुल कहो हमीं जिस पर खुद पर लगना है,
ज़हरा का वो बाबा है हसनैन का नाना है.

इस हाशमी दूल्हे पर कोनैन को मैं वारू,
जो हुस्न ओ शुमैल में वक़्त ए ज़माना है।

इज़्ज़त कहें ना मरजाएं क्यों नाम ए मुहम्मद पर,
तुम भी किसी दिन हम ने दुनिया कहो तो जाना है।

यूं शाह ए मदीना की में, पुश्त पनाही में,
किया इसकी मुझे परवा दुश्मन जो जमाना है।

सोह बार अगर तौबा टूटी भी तो किया हैरात,
बख्शीश की रिवायत में तोबा तो बहाना है।

पुर नूर सी राहें हैं, गुनबाद पे निगाहें हैं,
जलवे भी अनोखे हैं, मंज़र भी सुहाना है।

ये कह काय दार ए हक़ कहो ली मौत में कुछ मोहलत,
मिलाद की आमद है महफ़िल को सजाना है।

आओ दर ए ज़हरा पर फैले हुए दामन,
ये नसल करीमों की लाजपाल घराना है।

क़ुर्बान उस आक़ा पर कल हश्र के दिन जिस्नाय,
इस उम्मत ए आसी को कमली में छुपाना है।

हर वक्त वो है मेरी दुनिया ए तसव्वुर में,
ऐ शौक कहीं अब तो आना है ना जाना है।

हम क्यूँ ना कहें उन्से रोदद ए आलम अपनी,
जब उनका कहा खुद भी अल्लाह नहीं माना है।

महरूम ए करम इस को रखिये ना सर ए महशर,
जैसा है नसीर आख़िर, साहिल तो पुराना है।

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai Video

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai - 1
Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai - 2

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai Lyrics English

Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai ,
Ek Main Hi Nahi Un Par Qurban Zamana Hai,
Jo Rab E Do Aalam Ka Mahboob Yagana Hai.

 

Kal Pul Say Hamein Jis Nay Khud Par Lagana Hai,
Zahra Ka Woh Baba Hai Hasnain Ka Nana Hai.

Iss Hashmi Dulha Per Konain Ko Main Waroon,
Jo Husn O Shumail Mein Yakta E Zamana Hai.

Izzat Say Na Marjayein Kyun Naam E Muhammad Par,
Youn Bhi Kisi Din Hum Ne Duniya Say Toh Jana Hai.

Yoon Shah E Madina Ki Mein Pusht Panahi Mein,
Kiya Iski Mujhe Parwah Dushman Jo Zamana Hai.

Soh Bar Agar Tauba Tuti Bhi To Kiya Hairat,
Bakhshih Ki Riwayat Mein Toba To Bahana Hai.

Pur Noor Si Rahein Hain, Gunbad Pay Nigahein Hai,
Jalwey Bhi Anokhay Hain, Manzar Bhi Suhana Hai.

Yeh Keh Kay Dar E Haq Say Li Maut Mein Kuch Mohlat,
Milad Ki Aamad Hai Mehfil Ko Sajana Hai.

Aao Dar E Zahra Par Phalaye Hue Daman,
Yeh Nasal Kareemon Ki Lajpal Gharana Hai.

Qurban Us Aaqa Per Kal Hashr Ke Din Jisnay,
Iss Ummat E Aasi Ko Kamli Mein Chupana Hai.

Har Waqt Woh Hain Meri Duniya E Tasawar Mein,
Aie Shoq Kahin Ab To Aana Hai Na Jana Hai.

Hum Kyun Na Kahein Unsay Rodad E Alam Apni,
Jab Unka Kaha Khud Bhi Allah Nay Mana Hai.

Mehroom E Karam Is Ko Rakhiye Na Sar E Mehshar,
Jaisa Hai Naseer Aakhir, Sahil Toh Purana Hai.

Leave a Comment